15+ अंजीर खाने के फायदे – Benefits of Fig in Hindi

15+ अंजीर खाने के फायदे – Benefits of Fig in Hindi : नमस्कार दोस्तों, आपको स्वागत है हमारे इस Blog पर, जहापर आज हम आपको बताएँगे “15+ अंजीर खाने के फायदे – Benefits of Fig in Hindi”. अंजीर जितना स्वाद में अनूठा होता है, उतना ही सेहत की दृष्टि से भी गुणकारी है। यह एक ऐसा मधुर फल है जो जिसे बच्चों से लेकर बुजुर्ग तक पसंद करते हैं।अंजीर का सेवन आमतौर पर लोग ड्राईफ्रूट के रूप में करते हैं। एंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर अंजीर में कई तरह के पोषक तत्व भी पाए जाते हैं जो शरीर को कई रोगों से बचाने में सहायक हैं। आज इस पोस्ट में बतायंगे — 15+ अंजीर खाने के फायदे – Benefits of Fig in Hindi.

Table of Contents

अंजीर क्या है – Anjir Kya Hai in Hindi

फिकस कैरिका (Ficus carica) को हिंदी में ‘अंजीर‘ और अंग्रेजी में ‘Common Fig’ के नाम से भी जाना जाता है। अंजीर एक वृक्ष का फल है जो पक जाने पर गिर जाता है। पके फल को लोग खाते हैं। सुखाया फल बिकता है। सूखे फल को टुकड़े-टुकड़े करके या पीसकर दूध और चीनी के साथ खाते हैं। यह बहुत ही लाभकारी फल है। इसका जैम (फलों के टुकड़ों का मुरब्बा) भी बनाया जाता है। सूखे फल में चीनी की मात्रा लगभग 62 प्रतिशत तथा ताजे पके फल में 22 प्रतिशत होती है। इसमें कैल्सियम तथा विटामिन ‘A’ और ‘B’ काफी मात्रा में पाए जाते हैं। इसके खाने से बध्दकोष्ठता (कब्जियत) दूर होती है।

अंजीर का पेड़ एशिया (दक्षिण-पश्चिमी भाग) का एक देशी पौधा है और अब यह यूरोप और दुनिया के अन्य हिस्सों में फैल गया है। भारतीय पौराणिक कथाओं में पूजा की वस्तु के रूप में अंजीर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। अंजीर का पेड़ प्राचीन काल से ही भोजन और औषधि के समृद्ध स्रोत के रूप में जाना जाता रहा है।

इसका उत्पादन मिस्र, तुर्की, मोरक्को, स्पेन, इटली, ग्रीस, कैलिफोर्निया और ब्राजील जैसे देशों में किया जाता है। यह गर्म, शुष्क और थोड़ी ठंडी जलवायु परिस्थितियों में बढ़ता है। अंजीर का सेवन दुनिया भर में सूखे और ताजे दोनों रूपों में किया जाता है। 1-3 अंजीर का खाने योग्य भाग, जो एक फल है, एक पात्र, मांसल और खोखला होता है। आज हम जानेंगे — 15+ अंजीर खाने के फायदे – Benefits of Fig in Hindi.

अंजीर कितनी प्रकार के होते है — Type of Fig in Hindi

अंजीर एक सूखा फल है। यह 2 प्रकार का होता है, जो ये हैं —

1. जंगली अंजीर। इसके फल और पत्ते खेती वाले अंजीर से छोटे होते हैं।
2. जिसकी खेती की जाती है। इस अंजीर के पत्ते व फल बड़े-बड़े होते हैं।

15+ अंजीर खाने के फायदे – Benefits of Fig in Hindi

Benefits of Fig in Hindi

अंजीर को फल और ड्राई फ्रूट दोनों तरह से खाया जाता है। एंटीऑक्सिडेंट्स से भरपूर अंजीर में इतने सारे औषधीय गुण होते हैं कि इसे सुपरफूड कहा जाता है. अंजीर में विटामिन-ए, बी, सी, के और कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, पोटैशियम, जिंक, कॉपर और मैंगनीज जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं. आमतौर पर लोग ड्राईफ्रूट के रूप में इसका सेवन करते हैं. स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि यदि दो अंजीर को नियमित रूप से डाइट में शामिल कर लिया जाए तो ये कई बीमारियों में राहत दे सकती है। चलिए जानते है — 15+ अंजीर खाने के फायदे – Benefits of Fig in Hindi.

15+ अंजीर खाने के फायदे (01 – 05)

1. अंजीर के कैंसर रोधी लाभ (Anticancer)

साइटोटोक्सिक यौगिकों को अंजीर लेटेक्स से निकाला गया है। इन विट्रो अध्ययनों के दौरान इन यौगिकों ने कई कैंसर सेल लाइनों द्वारा प्रसार के निषेध का प्रदर्शन किया। इस प्रकार, अंजीर लेटेक्स को कैंसर कोशिकाओं के उत्पादन और विकास का संभावित अवरोधक माना जाता है। पेट के कैंसर सेल लाइन के विकास पर अंजीर लेटेक्स के प्रभाव पर अध्ययन इसके संभावित एंटीट्यूमर प्रभाव को प्रदर्शित करता है।

2. रक्तचाप को कम करता है (control blood pressure)

अंजीर में मौजूद पोटेशियम एक महत्वपूर्ण खनिज है । इसके नियमित सेवन से ब्लड प्रशेर को संतुलित रखने में मदद मिलती है। साथ ही यह सोडियम के हानिकारक प्रभावों को भी कम करता है, जो रक्तचाप के लिए बेहद नुकसानदेह है। हालांकि आजकल प्रोसेड फूड बाजारों में ज्यादा मिलते हैं इसलिए ये बेहद जरूरी है कि हम पोटेशियम से भरपूर आहार लें।

3. प्रभावी एंटीऑक्सीडेंट (Antioxidant) के रूप में अंजीर के लाभ

अंजीर में फेनोलिक यौगिक होते हैं जो हाइड्रोजन डोनर, रिड्यूसिंग एजेंट, सिंगलेट ऑक्सीजन क्वेंचर, फ्री रेडिकल मैला ढोने वाले आदि के रूप में अपनी एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि के कारण मानव स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं । अध्ययनों में कहा गया है कि अंजीर के विभिन्न घटक डीऑक्सीराइबोन्यूक्लिक एसिड (DNA), लिपिड और प्रोटीन को नुकसान से बचाने के लिए प्रतिक्रियाशील ऑक्सीजन प्रजातियों को परिमार्जन करते हैं।

4. शुगर के स्तर को कम करता है (Control sugar level)

अंजीर में उच्च मात्रा में पोटेशियम होता है। यह आपके शरीर में शुगर के स्तर को नियंत्रित रखता है। अंजीर में मौजूद क्लोरोजेनिक एसिड ब्लड शुगर लेवल कम करने में मदद कर सकता है। आप सलाद और स्मूदी में कटे हुए अंजीर का इस्तेमाल कर सकते हैं ।

5. हेपेटोप्रोटेक्टिव (Hepatoprotective) एजेंट के रूप में अंजीर के लाभ

कई अध्ययनों ने अंजीर के अर्क की संभावित हेपेटोप्रोटेक्टिव गतिविधि को दिखाया है। चूहों पर शोध ने अंजीर की पत्तियों से पेट्रोलियम ईथर के अर्क का अध्ययन किया। हेपेटोप्रोटेक्टिव गतिविधि के लिए चूहों पर एक अध्ययन में अर्क का मूल्यांकन किया गया था, और ऊतकीय, जैव रासायनिक और कार्यात्मक परिवर्तनों का महत्वपूर्ण उलट देखा गया था। इसने अर्क की संभावित हेपेटोप्रोटेक्टिव गतिविधि का सुझाव दिया।

15+ अंजीर खाने के फायदे (06 – 10)

6. वजन घटाने में मददगार (weight loss)

अंजीर में कॉपर,मैग्नीशियम,फॉस्फोरस,पोटेशियम आदि पोषक तत्व होते हैं। इन पोषक तत्वों की मदद से आपका मेटाबॉलिज्म बिल्कुल सही रहता है। इसके अलावा अंजीर में फाइबर की भरपूर मात्रा होती है।जो आपके पेट को लंबे समय तक भरा हुआ रखता है। अंजीर आपकी कैलोरी की मात्रा को भी नियंत्रित करता है। तो अगर अपना वजन कम करना चाहते हैं तो अंजीर को अपने आहार में जरूर शामिल करें।

7. हाइपोग्लाइकेमिक (Hypoglycaemic) एजेंट के रूप में अंजीर के लाभ

अंजीर के तने की छाल के अर्क के मधुमेह विरोधी प्रभाव का प्रदर्शन किया गया। यह पाया गया कि अर्क ने रक्त शर्करा के स्तर को सामान्य कर दिया। मधुमेह चूहों पर एक अध्ययन से पता चला है कि अंजीर के पत्ते के अर्क का हाइपोग्लाइकेमिक प्रभाव होता है। एक प्रीक्लिनिकल अध्ययन से यह भी पता चला है कि भोजन में अंजीर और इसकी पत्तियां हाइपरग्लाइकेमिया को नियंत्रित करने में मदद करती हैं।

8. प्रजनन क्षमता बढ़ाता है (reproduction health)

जैसे कि हमने आपको पहले ही बताया कि अंजीर में जिंक,मैंगनीज,मैग्नीशियम और आयरन जैसे खनिजों का भंडार है। यह सभी तत्व प्रजनन स्वास्थ्य को बढ़ावा देते हैं। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और फाइबर हार्मोन असंतुलन और पीरियड्स के दौरान होने वाली समस्याओं में भी काफी कारगर है। महिलाओं को कमजोरी में भी अंजीर खाने की सलाह दी जाती है।

9. कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने में अंजीर के फायदे

अंजीर की पत्ती के अर्क पर अध्ययन ने यकृत ट्राइग्लिसराइड (टीजी) और कोलेस्ट्रॉल (कुल कोलेस्ट्रॉल) और यकृत से टीजी के स्राव को कम करने में इसकी क्षमता का प्रदर्शन किया। पशु मॉडल पर किए गए अध्ययनों के नतीजे बताते हैं कि अंजीर फल कोरोनरी हृदय रोगों के जोखिम को कम कर सकता है।

10. हड्डियों को बनाए मजबूत (strong bone)

अंजीर में कैल्शियम, फॉस्फोरस,मैग्नीशियम,पोटेशियम आदि होते हैं। जो हड्डियों की तंदुरुस्ती के लिए बेहद लाभदायक होते हैं। ये सभी पोषक तत्व आपके हड्डियों को मजबूत बनाते हैं। हमारा शरीर खुद कैल्शियम प्रोड्यूस नहीं करता है इसलिए ये बेहद जरूरी है कि आप कैल्शियम से भरपूर चीजों का सेवन करें।

15+ अंजीर खाने के फायदे (10 – 16)

11. अंजीर एक जीवाणुरोधी और एंटिफंगल एजेंट के रूप में

अंजीर के अर्क ने एक अध्ययन में मौखिक बैक्टीरिया के खिलाफ जीवाणुरोधी गतिविधि का प्रदर्शन किया।
मौखिक बैक्टीरिया के खिलाफ एंटीबायोटिक दवाओं के संयोजन में अर्क के प्रभाव ने संकेत दिया कि अंजीर को प्राकृतिक जीवाणुरोधी एजेंट के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। अध्ययनों ने यह भी बताया कि अंजीर की पत्ती का अर्क जीवाणुनाशक गतिविधि और मध्यम एंटिफंगल गतिविधि को भी प्रदर्शित करता है।

12. एक एंटीस्पास्मोडिक और एंटीप्लेटलेट एजेंट के रूप में अंजीर

प्रयोगों ने अंजीर के अर्क के एंटीस्पास्मोडिक प्रभाव को दिखाया है। परिणाम यह भी दिखाते हैं कि पके हुए सूखे मेवों में स्पस्मोलाइटिक गतिविधि होने की संभावना होती है। मानव प्लेटलेट्स के एक पूर्व-विवो मॉडल का उपयोग करके अर्क की जांच की गई, और एंटीस्पास्मोडिक और एंटीप्लेटलेट प्रभाव देखे गए।

13. दिल का रखें ख्याल (heart health)

अंजीर में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट आपके ब्लड प्रेशर को भी कंट्रोल रखने में मदद करता है। इसके अलावा यह हृदय स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा होता है।अंजीर शरीर में ट्राइग्लिसराइड्स के स्तर को कम करने में मदद कर सकता है, जो हृदय संबंधी समस्याओं का प्रमुख कारण है।

14. तपेदिक के खिलाफ अंजीर के लाभ

एक अध्ययन में, अंजीर के पत्तों का अर्क माइकोबैक्टीरियम ट्यूबरकुलोसिस (तपेदिक पैदा करने वाले बैक्टीरिया) के खिलाफ प्रभावी पाया गया। इस क्षमता के कारण, यह मलेशिया में पारंपरिक रूप से तपेदिक के प्रबंधन के लिए उपयोग किया जाता है।

15. अंजीर का इम्यूनोमॉड्यूलेटरी प्रभाव

इसके इम्युनोमोडायलेटरी प्रभाव के मूल्यांकन और अध्ययन ने साबित कर दिया कि अंजीर ने एंटीबॉडी प्रतिक्रिया में उल्लेखनीय सुधार किया है।

16. अपनी ज्वरनाशक गतिविधि के कारण अंजीर के लाभ

शरीर के तापमान में कमी और तापमान में खमीर से प्रेरित वृद्धि को प्रदर्शित करने के लिए अंजीर के अर्क का अध्ययन किया गया है। अर्क ने जेनेरिक एंटीपीयरेटिक दवाओं की तुलना में प्रभाव दिखाया।

Note : सलाह सहित यह सामग्री केवल सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

अंजीर के साथ बरती जाने वाली सावधानियां – Precautions of Figs in Hindi

आपको निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखना चाहिए —

अंजीर रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करता है। हालांकि, मधुमेह वाले लोगों को अंजीर का मौखिक रूप से सेवन करते समय नियमित रूप से रक्त शर्करा के स्तर की निगरानी करनी चाहिए।

अंजीर के पत्तों की संभावित विषाक्तता (जब अधिक मात्रा में सेवन किया जाता है) के कारण, यह सलाह दी जाती है कि आपको सावधानी बरतनी चाहिए और उपयोग की जा सकने वाली अंजीर की पत्तियों की सुरक्षित मात्रा के बारे में आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए।

1 दिन में कितनी मात्रा में अंजीर खाना सही है?

अगर आप अपनी डाइट में अंजीर को शामिल करना चाहते हैं तो आपको यह पता होना चाहिए कि 1 दिन में कितनी मात्रा में अनदेखा ना सही होता है। क्योंकि अधिक मात्रा में अंजीर खाना नुकसानदायक भी हो सकता है। अगर आप कच्चे फल के रूप में अंजीर का सेवन कर रहे हैं तो दो से तीन फल पर्याप्त हैं। यदि अंजीर सूखे हैं तो तीन अंजीर को रात में पानी में भिगो दें और सुबह उन्हें चबा चबा कर खाएं। अंजीर खाने के और भी कई फायदे हैं। यह ब्लड शुगर लेवल, लीवर और पाचन संबंधी समस्याओं और रक्त संबंधी समस्याओं को दूर करने में भी मददगार है।

अंजीर का पोषण तत्व – Nutritional Value of Fig in Hindi

यूनाइटेड स्टेट्स डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर के आंकड़ों के अनुसार, सूखे अंजीर में उच्च पोषक तत्व पाए गए हैं क्योंकि यह अन्य सूखे मेवों की तुलना में खनिजों और विटामिनों का एक समृद्ध स्रोत है। पोषक मात्रा प्रति 100 g अंजीर पर

• Carbohydrate — 73.50 %
• Protein — 4.67 %
• Fat — 0.56 %
• Dietary fibre — 3.68 %
• Energy — 317.78 kcal
• Calcium (Ca) — 1545.46
• Magnesium (Mg) — 679.04
• Phosphorus (P) — 365.75
• Iron (Fe) — 29.49
• Cadmium (Cd) — 0.0034
• Copper (Cu) — 5.02
• Manganese (Mn) — 4.75
• Arsenic (As) — 1.669
• Chromium (Cr) — 1.47
• Titanium (Ti) — 0.3727
• Nickel (Ni) — 1.178
• Tin (Sn) — 1.329
• Zinc (Zn) — 9.87
• Cobalt (Co) — 0.032
• Lead (Pb) — 0.680
• Lithium (Li) — 0.245
• Molybdenum (Mo) — 0.026
• Thallium (Tl) — 1.5686
• Antimony (Sb) — 0.298
• Selenium (Se) — 0.790

अंजीर का सेवन किस तरह से किया जाना चाहिए?

अंजीर को कच्चे फल के रूप में खाया जा सकता है इसके अलावा इसे सुखाकर भी खा सकते हैं। दोनों समान रूप से पोषक तत्व प्रदान करते हैं। बस फर्क इतना है कि सूखे अंजीर में जल की मात्रा नहीं होती है। कुछ आयुर्वेदाचार्य सूखे अंजीर को दूध में उबालकर खाने की सलाह देते हैं। वहीं अंजीर को पानी में भिगोकर भी खाना फायदेमंद होता है। कच्चे और सूखे दोनों प्रकार के अंजीर में प्रोटीन, फाइबर, हेल्दी फैट, कैल्शियम, पोटेशियम, आयरन और कॉपर पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं।

अंजीर के दुष्प्रभाव – Side Effects of Fig in Hindi

अंजीर के दुष्प्रभाव इस प्रकार हैं:

  • कुछ अन्य अध्ययनों से यह भी पता चला है कि यदि नियमित खुराक से अधिक का उपयोग किया जाता है तो इसकी पत्तियां मध्यम विषाक्तता प्रदर्शित करती हैं।
  • एक प्रीक्लिनिकल अध्ययन से पता चलता है कि अंजीर की पत्ती का अर्क, जब उच्च खुराक में उपयोग किया जाता है, तो यह यकृत को नुकसान पहुंचा सकता है।
  • जहां अंजीर का सही तरीके और सही मात्रा में सेवन शरीर के लिए फायदेमंद है, वहीं इसका अधिक सेवन नुकसानदायक भी हो सकता है। क्योंकि अति तो किसी भी चीज की अच्छी नहीं होती। रोजाना चार पांच अंजीर का सेवन शरीर को किसी भी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाता। अंजीर के ताजे फल की तासीर ठंडी होती है। जबकि सूखे फल की तासीर गर्म होती है। इसलिए अंजीर के सूखे फल का अधिक मात्रा में सेवन रक्त स्राव की वजह बन सकता है जैसे रेटीना से रक्तस्राव ,रेक्टस और योनि से हल्का रक्तस्राव हो सकता है। जिसकी वजह से हेमोलिटिक एनीमिया की समस्या हो सकती है।
  • ऐसा होने पर अंजीर का सेवन तुरंत बंद कर दें और डॉक्टर को दिखाएं। लो ब्लड प्रेशर के रोगियों को अंजीर का सेवन डॉक्टर की सलाह से करना चाहिए ।क्योंकि अंजीर हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करता है, इसलिए लो ब्लड प्रेशर में इसका सेवन खतरनाक साबित हो सकता है। कुछ लोगों को फ्रूट एलर्जी होती है ।जिससे त्वचा में सूजन और खुजली होने लगती है। ऐसे लोगों को डॉक्टर की सलाह से अंजीर का सेवन करना चाहिए। डायबिटीज के रोगी को इसके फल की बजाय पत्तों का सेवन करना चाहिए। अंजीर के ज्यादा सेवन से इसके बीज आंतों में रुकावट पैदा करते हैं। जिससे लीवर की समस्या उत्पन्न होती है।

FAQs

महिलाओं के लिए अंजीर क्यों जरूरी है?
क्युकी महिलाएं अधिक एनीमिक (Anemic) होती हैं, इसलिए उन्हें अंजीर का सेवन करना चाहिए जो आयरन का एक समृद्ध स्रोत है। अंजीर के नियमित सेवन से रक्त में हीमोग्लोबिन के स्तर में वृद्धि होगी। गर्भवती महिलाओं को भी अंजीर जरूर खाना चाहिए क्योंकि यह पोषक तत्वों से भरपूर होता है, यह भ्रूण के विकास के लिए फायदेमंद होता है और मां की हड्डियों को मजबूत करता है। यह मॉर्निंग सिकनेस के लक्षणों से भी छुटकारा दिला सकता है लेकिन आपको कितनी मात्रा में खाना चाहिए, इसके बारे में हमेशा डॉक्टर से बात करें।

क्या अंजीर बालों के लिए अच्छा है?
अंजीर में मैग्नीशियम, विटामिन सी और विटामिन ई जैसे बालों के अनुकूल पोषक तत्व होते हैं जो बालों के विकास को बढ़ावा देते हैं। ये पोषक तत्व बालों के विकास में तेजी लाने के लिए खोपड़ी में रक्त परिसंचरण को उत्तेजित करते हैं। आप अपने बालों के लिए अंजीर पाउडर या तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं।

क्या अंजीर आपको बेहतर नींद में मदद करता है?
जी हां, अंजीर या अंजीर शरीर में मेलाटोनिन की रिहाई को बढ़ावा देते हैं, जो नींद के चक्र को नियमित करने के लिए जिम्मेदार है और अनिद्रा प्रबंधन में मदद करता है। यह आपके मस्तिष्क में सेरोटोनिन के स्तर को भी बढ़ाता है, तनाव और चिंता को कम करता है और नींद की गुणवत्ता में सुधार करता है।

क्या अंजीर मानव इम्यूनोडिफीसिअन्सी वायरस (HIV) से लड़ने में मदद कर सकता है?
नहीं, ऐसा कोई साक्ष्य या अध्ययन नहीं है जो अंजीर के एचआईवी-विरोधी गुणों का समर्थन करता हो।

क्या रक्तस्राव विकारों को रोकने के लिए अंजीर को एक प्रभावी उपाय के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है?
हां, अंजीर में मौजूद पॉलीफेनोल्स में औषधीय रूप से सक्रिय घटक होते हैं जो थक्कारोधी के रूप में कार्य करते हैं। ये घटक रक्तस्राव विकारों को रोकने में सहायक हो सकते हैं।

क्या किडनी के लिए फायदेमंद है अंजीर?
हां, एक अध्ययन के अनुसार, अंजीर का अर्क यूरिया, सीरम क्रिएटिनिन और रक्त यूरिया नाइट्रोजन स्तर को कम करने में प्रभावी पाया गया है, जो अंजीर के नेफ्रोप्रोटेक्टिव प्रभाव को दर्शाता है।

क्या अल्जाइमर रोग में सहायक है अंजीर?
हां, अंजीर के पत्तों में Anticholinesterase and anti-HSV-1 (herpes simplex virus type 1) गतिविधि होती है; रिपोर्ट में कहा गया है कि अल्जाइमर रोग की प्रगति में कोलिनेस्टरेज़ और एचएसवी -1 संक्रमण की भूमिका है। इसलिए, व्यापक शोध के बाद, इसे अल्जाइमर रोग के संभावित उपचार के रूप में उपयोग किया जा सकता है।

क्या कब्ज दूर करने में अंजीर उपयोगी है?
हां, अंजीर को हल्के रेचक के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। विशेष रूप से, अंजीर फल का उपयोग इसके रेचक गुणों के कारण कब्ज के इलाज के लिए किया जाता है।

क्या अंजीर का शुक्राणुओं के मापदंडों पर कोई प्रभाव पड़ता है?
हां, एक अध्ययन में यह पाया गया कि इसके पत्तों के अर्क ने शुक्राणु मापदंडों को प्रभावित किया और शुक्राणुओं की संख्या में सुधार किया। कुछ अध्ययनों ने अंजीर के अर्क की कामोद्दीपक गतिविधि की भी सूचना दी, लेकिन परिणाम खुराक पर निर्भर पाया गया।

क्या हम मुंहासों के इलाज के लिए अंजीर का उपयोग कर सकते हैं?
हां, अध्ययनों के अनुसार, अंजीर मुँहासे विरोधी गतिविधि दिखाता है. यह बताया गया है कि इसके फलों और पत्तियों का अर्क एंटी-एक्ने गतिविधि दिखाता है, लगभग जेनेरिक दवाओं की तुलना में।

हमारा अंतिम शब्द

तो दोस्तों आसा करता हु की आपको हमारे दिया गया जानकारी (15+ अंजीर खाने के फायदे – Benefits of Fig in Hindi) आपको पसंद आया होगा. अगर आपको पसंद आये तो हमें नीच Comments करके बताये और अपने दोस्तों के साथ और Social Media Platforms पर Share जरूर करे. धन्यवाद!

1 thought on “15+ अंजीर खाने के फायदे – Benefits of Fig in Hindi”

Leave a Comment