सूर्य का क्षेत्रफल कितना है | Surya ka Kshetrafal Kitna Hai

सूर्य का क्षेत्रफल कितना है – Surya ka Kshetrafal Kitna Hai : नमस्कार दोस्तों, आपको स्वागत है हमारे इस Blog पर, जहापर आज हम आपको बताएँगे —

“सूर्य का क्षेत्रफल कितना है – Surya ka Kshetrafal Kitna Hai”।

सूर्य हमारे सौरमंडल में सबसे बड़ा एकमात्र नखत्र है। सूर्य सौरमंडल का केन्द्र में है, जिसके चक्कर सारे ग्रह, उपग्रह व अन्य पिंड लगाते हैं। हमारे सौरमंडल का जितना वजन है,

उसका 98.8 प्रतिशत वजन तो अकेले सूर्य का है। अपनी धरती से तो तुम्हें सूर्य और चंद्र एक ही आकार के दिखते हैं, लेकिन आकार में इनका कोई मेल नहीं है। चंद्र पृथ्वी से छोटा है, जबकि सूर्य पृथ्वी से 13 लाख गुना बड़ा है। आजके Article पर आप जानेंगे

— सूर्य का क्षेत्रफल कितना है – Surya ka Kshetrafal Kitna Hai

सूर्य का क्षेत्रफल कितना है – Surya ka Kshetrafal Kitna Hai

सूर्य का कुल क्षेत्रफल 1.4 x 10 पॉवर 27 घन मीटर है। नासा के आँकड़ों के अनुसार लगभग 1.3 मिलियन पृथ्वी सूर्य के अंदर समा सकती है।

सूर्य का दायरा लगभग 695,000 किलोमीटर (432,000 मील) या पृथ्वी का 109 गुना है। यदि पृथ्वी के डायामीटर की बात की जाए तो पृथ्वी का डायामीटर है

6356 किलोमीटर। वही सूर्य का डाया 13 लाख 92 हज़ार किलोमीटर है। ज्ञात रहे कि डायामीटर की तुलना करके आप सूर्य में 13 लाख पृथ्वी स्थापित नही कस सकेंगे क्योंकि डायामीटर के बाद व्यास तथा क्षेत्रफल को आधार मानकर हम पृथ्वी जैसे 13 लाख ग्रह को इसमें समाहित करने की बात कर रहे हैं।

सूर्य का द्रव्यमान 1.989 x 10 30 किलोग्राम है, जो पृथ्वी के द्रव्यमान का लगभग 333,000 गुना है। सूर्य में पूरे सौर मंडल के द्रव्यमान का 99.8 प्रतिशत शामिल है।

सूर्य के द्रव्यमान का मोटे तौर पर तीन-चौथाई भाग हाइड्रोजन (~73%) से बना है; बाकी ज्यादातर हीलियम (~25%) है,

जिसमें ऑक्सीजन , कार्बन , नियॉन और आयरन सहित बहुत कम मात्रा में भारी तत्व हैं। प्रमुख खगोलविद इम्के डे पेटर और जैक जे. लिसाउर, पाठ्यपुस्तक ग्रह विज्ञान के लेखक(नए टैब में खुलता है), सौर प्रणाली को “सूर्य और कुछ मलबे” के रूप में संदर्भित करने के लिए।

लेकिन सूर्य का भार स्थिर नहीं है। समय के साथ, सौर हवा ने कणों को, और इस प्रकार द्रव्यमान को, तारे से दूर किया है।

खगोलशास्त्री फिल प्लाइट के अनुसार(नए टैब में खुलता है), सूरज हर सेकंड औसतन 1.5 मिलियन टन सामग्री सौर हवा को खो देता है।

इस बीच, तारे के हृदय में द्रव्यमान ऊर्जा में परिवर्तित हो जाता है। प्लाइट ने कहा कि तारे का बिजलीघर हर सेकंड 4 मिलियन टन से अधिक सौर सामग्री को ऊर्जा में परिवर्तित करता है।

Surya ka Kshetrafal Kitna Hai
Surya ka Kshetrafal Kitna Hai

read also- पृथ्वी का कुल क्षेत्रफल कितना है – Total Area of ​​The Earth in Hindi

सूर्य का तापमान कितनी है

वैज्ञानिक प्रयोगों के आधार पर यह ज्ञात हुआ है कि सूर्य के केंद्र का तापमान अनुमानित 150 लाख डिग्री सेंटीग्रेड है। इसके केंद्र में न्यूक्लियर फ्यूजन की क्रिया होती रहती है, जिसके कारण ऊष्मा उत्पन्न होती है। सूर्य के सतह पर गरूत्वाकर्षण बल के कारण दबाव बना रहता है, जिसके कारण इसकी सतह का तापमान लगभग 6,000 डिग्री सेंटीग्रेड तक बना रहता है।

सूर्य का कुछ खास बातें

• सूर्य लगभग 4.5 अरब वर्ष पुराना है। अपने जन्म के बाद से इसने अपने कोर में लगभग आधे हाइड्रोजन का उपयोग किया है। यह अगले 5 बिलियन वर्षों तक “शांतिपूर्वक” विकीर्ण करना जारी रखेगा

(हालांकि उस समय इसकी चमक लगभग दोगुनी हो जाएगी)। लेकिन अंततः यह हाइड्रोजन ईंधन से बाहर हो जाएगा। इसके बाद इसे आमूल-चूल परिवर्तन के लिए मजबूर किया जाएगा, जो हालांकि तारकीय मानकों के अनुसार सामान्य है, जिसके परिणामस्वरूप पृथ्वी का कुल विनाश होगा।

• सूर्य का उत्पादन पूरी तरह स्थिर नहीं है। न ही सनस्पॉट गतिविधि की मात्रा है। 17वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में बहुत कम सनस्पॉट गतिविधि की अवधि थी

जिसे मंडर मिनिमम कहा जाता था। यह उत्तरी यूरोप में असामान्य रूप से ठंड की अवधि के साथ मेल खाता है जिसे कभी-कभी लिटिल आइस एज के रूप में जाना जाता है। सौर मंडल के निर्माण के बाद से सूर्य के उत्पादन में लगभग 40% की वृद्धि हुई है।

• सूर्य का चुंबकीय क्षेत्र बहुत मजबूत (स्थलीय मानकों के अनुसार) और बहुत जटिल है। इसका मैग्नेटोस्फीयर (जिसे हेलिओस्फीयर भी कहा जाता है) प्लूटो से काफी आगे तक फैला हुआ है।

• सूर्य की सतह, जिसे फोटोस्फीयर कहा जाता है, लगभग 5800 K के तापमान पर है। सनस्पॉट “ठंडे” क्षेत्र हैं, केवल 3800 K (वे केवल आसपास के क्षेत्रों की तुलना में काले दिखते हैं)। सनस्पॉट बहुत बड़े हो सकते हैं, जिनका व्यास 50,000 किमी तक हो सकता है। सनस्पॉट जटिल और सूर्य के चुंबकीय क्षेत्र के साथ बहुत अच्छी तरह से समझ में नहीं आने वाली बातचीत के कारण होते हैं।

• सूर्य के कोर (इसके त्रिज्या का लगभग आंतरिक 25%) पर स्थितियां चरम पर हैं। तापमान 15.6 मिलियन केल्विन है और दबाव 250 बिलियन वायुमंडल है। कोर के केंद्र में सूर्य का घनत्व पानी के घनत्व से 150 गुना अधिक है।

• सूर्य की बाहरी परतें अलग-अलग घूर्णन प्रदर्शित करती हैं: भूमध्य रेखा पर सतह हर 25.4 दिनों में एक बार घूमती है; ध्रुवों के पास यह 36 दिन जितना है। यह विषम व्यवहार इस तथ्य के कारण है कि सूर्य पृथ्वी की तरह ठोस पिंड नहीं है। इसी तरह के प्रभाव गैसीय ग्रहों में देखने को मिलते हैं। विभेदक घूर्णन सूर्य के आंतरिक भाग में काफी नीचे तक फैला हुआ है लेकिन सूर्य का कोर एक ठोस पिंड के रूप में घूमता है।

• सूर्य वर्तमान में लगभग 70% हाइड्रोजन और 28% हीलियम है, बाकी सब कुछ 2% से कम है। यह समय के साथ धीरे-धीरे बदलता है क्योंकि सूर्य अपने कोर में हाइड्रोजन को हीलियम में परिवर्तित करता है।

• सूर्य को कई पौराणिक कथाओं में व्यक्त किया गया है: यूनानियों ने इसे हेलियोस कहा, प्राचीन भारतीय इसे सूर्य कहते थे, रोमन इसे सोल कहते थे।

• सौर मंडल में सूर्य अब तक की सबसे बड़ी वस्तु है। इसमें सौर मंडल के कुल द्रव्यमान का 99.8% से अधिक शामिल है, केवल बृहस्पति के पास शेष 1.2% है।

FAQs

सूर्य का तापमान कितना है

सूर्य बेहद गर्म गैसों से बना एक गोला है जिसके केन्द्र का तापमान 1.5 करोड़ डिग्री सेल्सियस है।

सूर्य किस चीज से बना है

सूर्य हाइड्रोजन, हीलियम आदि का गोला है। इसका 73.5 प्रतिशत भाग हाइड्रोजन है और 24.9 प्रतिशत भाग हीलियम। इसमें ऑक्सीजन, कार्बन, आयरन, सिलिकॉन, मैग्नीशियम, सल्फर आदि भी हैं।

आकाशगंगा कितनी बड़ा है

ब्रह्मांड इतना विशाल है कि इसकी कल्‍पना ही नहीं है और इसमें सूर्य जैसे असख्‍ंय तारे हैं। यानी की आकाशगंगा में सूर्य की स्‍थिति 100 अरब से अधिक तारो में से एक है। हमारा सूर्य सामान्य मुख्य क्रम का G2 श्रेणी का साधारण तारा है।

सूर्य सें पृथ्वी की औसत दुरी कितनी है

सूर्य से पृथ्वी की औसत दूरी तकरीबन 14,96,00,000 किलोमीटर या 9,29,60,000 मील है। सूर्य का प्रकाश धरती पर पहुंचने के लिए 8 मिनट 16.6 सेकेण्ड का समय लगता है।

सूर्य पृथ्वी की तुलना में कितनी बड़ा है

पृथ्‍वी से बहुत ही दूर स्‍थित होने पर सूर्य हमें बड़ा नहीं दिखाई देता, लेकिन सूर्य इतना बड़ा है उसमें 110 पृथ्‍वियां समा जाएं। सूर्य का व्यास 13 लाख 92 हज़ार किलोमीटर (865000 मील) है,

जो पृथ्वी के व्यास का लगभग 110 गुना है. सूर्य पृथ्वी से 13 लाख गुना बड़ा है और पृथ्वी को सौर ऊर्जा का 2 अरबवां भाग मिलता है।

सौरमंडल की कितनी हिस्सा सूर्य का है

सौरमंडल के द्रव्यमान का कुल 99.8% द्रव्यमान सूर्य का है जबकि बचा हुआ बृहस्पति का है। सूर्य के बाद ज्‍यूपिटर सौर मंडल का सबसे बड़ा ग्रह है।

सूर्य का गुरुत्वाकर्षण कितनी है

सूर्य की गुरुत्वाकर्षण फोर्स पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण से 27 गुना अधिक है। यदि किसी का वजन पृथ्वी पर 1 kg है, तो सूर्य पर उसका वजन 27 kg होगा।

यदि कोई वस्तु सूर्य के 20 लाख 22 हज़ार किलोमीटर के दायरे में आती है, तो अपनी तीव्र गुरुत्वाकर्षण शक्ति के कारण सूर्य उसे अपनी ओर खींच लेता है।

सूर्य के प्रकाश में कौन सी विटामिन मिलती है?

सूर्य के प्रकाश में विटामिन डी मिलता है।

सूर्य की किरण में कितने रंग होते है?

सूर्य की किरण में सात रंग होते है।

सूर्य का गति कितनी है

जिस तरह हमारी धरती सूरज का चक्कर लगा रही है, उसी तरह सूरज हमारी आकाशगंगा यानी मिल्की-वे के केन्द्र का चक्कर लगा रहा है। मिल्की-वे के केन्द्र से लगभग 27 हजार प्रकाश वर्ष की दूरी पर स्थित सूरज 220 किलोमीटर प्रति सेकेंड की रफ्तार से चक्कर लगा रहा है।

हमारा अंतिम शब्द

तो दोस्तों आसा करता हु की आपको हमारे दिया गया जानकारी (सूर्य का क्षेत्रफल कितना है – Surya ka Kshetrafal Kitna Hai) आपको पसंद आया होगा.

अगर आपको पसंद आये तो हमें नीच Comments करके बताये और अपने दोस्तों के साथ और Social Media Platforms पर Share जरूर करे. धन्यवाद!

2 thoughts on “सूर्य का क्षेत्रफल कितना है | Surya ka Kshetrafal Kitna Hai”

Leave a Comment